Coronavirus Lockdown: Actor Azaz Khan trolled for his tweet on Temple Mosque in scenario of COVID 19 - 'मंदिर-मस्जिद चाहिए या अस्पताल?', कोरोना के माहौल में ये सावल पूछ ट्रोल हुए एक्टर ऐजाज खान ने पूछा - Jansatta
ताज़ा खबर
 

‘मंदिर-मस्जिद चाहिए या अस्पताल?’, कोरोना के माहौल में ये सवाल पूछ ट्रोल हुए एक्टर ऐजाज खान

Ajaz Khan trolled: ऐजाज खान ने ट्वीट करते हुए लोगों से पूछा कि प्रिय भारतीयों, अब बताओ..तुम लोगों को मंदिर चाहए, मस्जिद चाहिए या फिर अस्पताल। ऐजाज का ये ट्वीट वायरल हो रहा है। तमाम लोग इसपर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

Author Updated: March 26, 2020 1:24 PM
Coronavirus Lockdown के माहौल में मंदिर-मस्जिद की बात कर ट्रोल हुए ऐजाज खान।

चीन के वुहान से निकला कोरोना वायरस पूरी दुनिया में महामारी बनकर बरस पड़ा है। दुनिया भर के तमाम देश इस वायरस की चपेट में आ चुके हैं। भारत में भी कोरोना का कहर बरप रहा है। 26 मार्च तक भारत में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 639 हो चुकी है। देश में अब तक 15 लोग इस वायरस के कारण अपनी जान भी गंवा चुके हैं। कोरोना वायरस से फैले संकट को देखते हुए बॉलीवुड एक्टर ऐजाज खान ने एक ट्वीट किया है। बहुत से लोग ऐजाज के ट्वीट पर उन्हें ट्रोल भी कर रहे हैं।

दरअसल ऐजाज खान ने ट्वीट करते हुए लोगों से पूछा कि प्रिय भारतीयों, अब बताओ..तुम लोगों को मंदिर चाहए, मस्जिद चाहिए या फिर अस्पताल। ऐजाज का ये ट्वीट वायरल हो रहा है। तमाम लोग इसपर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

 

बहुत से लोग ऐजाज खान को ही ट्रोल कर रहे हैं। ऐसे लोग लिख रहे हैं कि तुम किसी औऱ देश के हो क्या जो भारतीयों से सवाल पूछ रहे हो। वहीं बहुत से यूजर्स ऐसे भी हैं जो लिख रहे हैं कि मंदिर मस्जिद की बात करने से पहले तुम्हें स्कूल जाना चाहिए।

कुछ यूजर्स ऐजाज खान के इस ट्वीट पर बेहद आपत्तिजनक औऱ निजी कमेंट्स कर रहे हैं। ये कमेंट्स इतने आपत्तिजनक हैें कि उन्हें यहां पर दिखाया भी नहीं जा सकता। हालांकि कुछ यूजर्स ऐजाज के ट्वीट से सहमत होते हुए लिख रहे हैं कि भारत में सबसे ज्यादा अगर किसी चीज की जरूरत है तो वो है अस्पताल औऱ अच्छी स्वास्थ सेवाएं।


बता दें कि कोरोना ने जिस तरह से अपनी विकराल रूप दिखाया है उसे तमाम विकसित देशों की भी स्वास्थ सेवाएं काबू नहीं कर पा रही हैं। इटली और स्पेन जैसे देश में तो मरीजों के इलाज के लिए अस्पताल और डॉक्टर्स भी कम पड़ रहे हैं। भारत में जिस हिसाब से आबादी है उसे देखते हुए यहां के हालात बेहद बदतर हो सकते हैं।

div , .strick-ads-newm > div {margin: 0 auto; } .extra-bbc-class{bottom: 103px;} } @media (max-width:480px){ .trending-list li{width:100%; padding-left:15px;} } .custom-share>li>a i.linke{background-position:2px -142px; width:23px; height:24px;} .custom-share>li>a i.linke {background-position:3px -180px; width: 23px; height: 24px;} .custom-share>li.linke a{background:#0172b1;}
0 ) { try { var justnowcookieval = getjustnowcookie( 'jsjustnowclick' ); if ( 1366328 != justnowcookieval || null === justnowcookieval || 'undefined' === justnowcookieval ) { jQuery('.breaking-scroll-j').css('display', 'block'); } else { jQuery('.breaking-scroll-j').css('display', 'none'); } } catch (err) { } } } setTimeout( function() { show_justnow_wid() }, 2000 ); if( getCookie("jsjustnowclick") != '' ){ if( getCookie("jsjustnowclick") != 1366328 ){ document.cookie = 'jsjustnowclick' + "=" + getCookie("jsjustnowclick") + "; expires=Thu, 01 Jan 1970 00:00:00 UTC; path=/;"; } } if( getCookie("jsjustnowclick") == '' ){ jQuery( '#append_breaking_box' ).show(); } else { jQuery( '#append_breaking_box' ).hide(); } // }); }); jQuery(document).scroll(function() { var y = jQuery( this ).scrollTop(); if (y > 400) { jQuery( '#append_breaking_box' ).addClass( 'animate-break' ); } else { jQuery( '#append_breaking_box' ).removeClass( 'animate-break' ); } });
*/ */ */ */