West Bengal: Coronavirus scare sets off clash in Kolkata Jail as Prisoners seeks instant bail - पश्चिम बंगालः जेल में भी Coronavirus से कोहराम, तत्काल बेल को लेकर झड़प; पुलिस को दागने पड़े टियर गैस के गोले! - Jansatta

पश्चिम बंगालः जेल में भी Coronavirus से कोहराम, तत्काल बेल को लेकर झड़प; पुलिस को दागने पड़े टियर गैस के गोले!

कोरोना वायरस महामारी फैलने के मद्देनजर किसी कैदी का परिवार का कोई सदस्य सिर्फ जेल अधिकारियों को फोन कर अपने कैद परिजन के स्वास्थ्य की जानकारी ले सकता है।

कोलकाता स्थित दमदम सेंट्रल जेल में शनिवार को झड़प के दौरान तोड़फोड़ और आगजनी हुई थी। आग पर काबू पाते हुए दमकलकर्मी। (फोटोः पीटीआई)

Coronavirus का कहर सड़क से संसद और सोशल मीडिया के बाद अब जेल/सुधार गृह तक पहुंच गया है। शनिवार को पश्चिम बंगाल में इसी महामारी के खौफ को लेकर कोहराम मच गया। तत्काल बेल को लेकर कैदियों की सुरक्षाकर्मियों से झड़प हुई। इस दौरान ईंट-पत्थर भी चले। हल्की-फुल्की आगजनी हुई, जिसके बाद हालात काबू करने के लिए पुलिस को टियर गैस के गोले दागने पड़े।

समाचार एजेंसी PTI-Bhasha के अनुसार, पश्चिम बंगाल के कोलकाता स्थित दमदम सुधार गृह में रखे लोगों को ऐहतियातन उनके परिजन से मिलने न देने के राज्य सरकार के फैसले के बाद शनिवार को वहां कैदियों की सुरक्षार्किमयों के साथ झड़प हो गई। इस दौरान पथराव हुआ और जेल की संपत्ति को आग के हवाले कर दिया गया।

रिपोर्ट में आगे जेल के एक शीर्ष अधिकारी के हवाले से कहा गया शनिवार सुबह कुछ कैदियों ने जोर देकर कहा कि उन्हें पैरोल पर रिहा किया जाए, लेकिन जब अधिकारियों ने उनकी मांग को अस्वीकार कर दिया तो उन्होंने हिंसा शुरू कर दी। उन्होंने बताया कि इसके बाद कैदियों और जेल प्रहरियों के बीच झड़प हुई।

अधिकारी ने कहा कि आरएएफ के जवान और पुलिसकर्मी कुछ देर बाद स्थिति को नियंत्रित करने में कामयाब रहे। स्थिति अब नियंत्रण में है। उन्होंने बताया कि कई दमकल वाहनों को आग पर काबू पाने के काम में लगाया गया। फिलहाल किसी के हताहत होने की खबर
नहीं है।

कोरोना वायरस महामारी फैलने के मद्देनजर किसी कैदी का परिवार का कोई सदस्य सिर्फ जेल अधिकारियों को फोन कर अपने कैद परिजन के स्वास्थ्य की जानकारी ले सकता है।

NDTV की रिपोर्ट के मुताबिक, हिंसा के दौरान कैदियों ने आगजनी की थी। सूचना पर आनन-फानन पुलिस मौके पर पहुंची, जिसके बाद उन्हें हालात काबू करने के लिए टियर गैस के गोले दागने पड़े। कुछ रिपोर्ट्स का हवाला देते हुए यह भी कहा गया कि वहां पर हालात काबू करने के लिए इस दौरान रबड़ बुलेट भी चलाई गई थीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

div , .strick-ads-newm > div {margin: 0 auto; } .extra-bbc-class{bottom: 103px;} } @media (max-width:480px){ .trending-list li{width:100%; padding-left:15px;} } .custom-share>li>a i.linke{background-position:2px -142px; width:23px; height:24px;} .custom-share>li>a i.linke {background-position:3px -180px; width: 23px; height: 24px;} .custom-share>li.linke a{background:#0172b1;}
0 ) { try { var justnowcookieval = getjustnowcookie( 'jsjustnowclick' ); if ( 1363065 != justnowcookieval || null === justnowcookieval || 'undefined' === justnowcookieval ) { jQuery('.breaking-scroll-j').css('display', 'block'); } else { jQuery('.breaking-scroll-j').css('display', 'none'); } } catch (err) { } } } setTimeout( function() { show_justnow_wid() }, 2000 ); if( getCookie("jsjustnowclick") != '' ){ if( getCookie("jsjustnowclick") != 1363065 ){ document.cookie = 'jsjustnowclick' + "=" + getCookie("jsjustnowclick") + "; expires=Thu, 01 Jan 1970 00:00:00 UTC; path=/;"; } } if( getCookie("jsjustnowclick") == '' ){ jQuery( '#append_breaking_box' ).show(); } else { jQuery( '#append_breaking_box' ).hide(); } // }); }); jQuery(document).scroll(function() { var y = jQuery( this ).scrollTop(); if (y > 400) { jQuery( '#append_breaking_box' ).addClass( 'animate-break' ); } else { jQuery( '#append_breaking_box' ).removeClass( 'animate-break' ); } });
*/ */ */ */