Writer sampat saral asks to release dr kafeel khan, says he will serve the nation in this coronavirus crisis -'डॉ. कफील को र‍िहा कर दें, संब‍ित पात्रा की तरह कसम नहीं खाएगा' - Jansatta

‘डॉ. कफील को र‍िहा कर दें, संब‍ित पात्रा की तरह कसम नहीं खाएगा’

CoronaVirus: तमाम एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर संक्रमित मरीजों की संख्या इसी तरह बढ़ती रही तो तमाम मेडिकल इक्विपमेंट के साथ-साथ ट्रेंड डॉक्टर की भी कमी पड़ सकती है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

CoronaVirus, COVID-19: देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। महामारी के बीच देश की मेडिकल सुविधाओं को लेकर भी चिंता व्यक्त की जा रही है। तमाम एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर संक्रमित मरीजों की संख्या इसी तरह बढ़ती रही तो तमाम मेडिकल इक्विपमेंट के साथ-साथ ट्रेंड डॉक्टर की भी कमी पड़ सकती है।

तमाम लोग सोशल मीडिया और दूसरे प्लेटफार्म के जरिए इस ओर सरकार का ध्यान खींच रहे हैं। इस बीच अपने चुटीले अंदाज के लिए चर्चित और अक्सर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेरने वाले कवि संपत सरल के नाम से एक ट्वीट किया गया और पीएम व उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ से डॉ. कफील खान को रिहा करने की अपील की गई। हालांकि Jansatta.Com से बातचीत में संपत सरल ने साफ किया ये ट्वीट उन्होंने नहीं किया है। वे सोशल मीडिया का इस्तेमाल नहीं करते हैं।

क्या लिखा है ट्वीट में : संपत सरल (Sampat Saral) के नाम से किये गए ट्वीट में प्रधानमंत्री मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को टैग करते हुए लिखा गया है, ‘ ऐसे समय में जब देश को डॉक्टरों की अति आवश्यकता है, आपसे अनुरोध है कि देश हित में डॉ. कफील खान को रिहा कीजिए…’। इसी ट्विटर हैंडल से बीजेपी नेता और पार्टी के प्रवक्ता संबित पात्रा पर भी तंज कसा गया है। ट्वीट में लिखा गया है ‘घोर संकट में वह (डॉ. कफील) देश की सेवा करेगा, पात्रा की तरह घर से न निकलने की कसम नहीं खाएगा’।

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी के लॉक डाउन के ऐलान के बाद संबित पात्रा ने ट्वीट किया था कि, ‘मैं प्रतिज्ञा करता हूं, चाहे जो हो जाए घर से बाहर नहीं निकलना है’। बता दें कि देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित किया था और 21 दिनों के लॉक डाउन का ऐलान किया था। प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा था कि दुनिया के तमाम देश कोरोना वायरस के आगे बेबस नजर आ रहे हैं। अगर हमने अभी 21 दिनों का लॉक डाउन नहीं किया तो देश 21 साल पीछे चला जाएगा। पीएम ने कहा था कि लॉक डाउन की वजह से हमें आर्थिक नुकसान उठाना पड़ेगा, लेकिन लोगों की जान बचाना ज्यादा जरूरी है।

0 ) { try { var justnowcookieval = getjustnowcookie( 'jsjustnowclick' ); if ( 1370870 != justnowcookieval || null === justnowcookieval || 'undefined' === justnowcookieval ) { jQuery('.breaking-scroll-j').css('display', 'block'); } else { jQuery('.breaking-scroll-j').css('display', 'none'); } } catch (err) { } } } setTimeout( function() { show_justnow_wid() }, 2000 ); if( getCookie("jsjustnowclick") != '' ){ if( getCookie("jsjustnowclick") != 1370870 ){ document.cookie = 'jsjustnowclick' + "=" + getCookie("jsjustnowclick") + "; expires=Thu, 01 Jan 1970 00:00:00 UTC; path=/;"; } } if( getCookie("jsjustnowclick") == '' ){ jQuery( '#append_breaking_box' ).show(); } else { jQuery( '#append_breaking_box' ).hide(); } // }); }); jQuery(document).scroll(function() { var y = jQuery( this ).scrollTop(); if (y > 400) { jQuery( '#append_breaking_box' ).addClass( 'animate-break' ); } else { jQuery( '#append_breaking_box' ).removeClass( 'animate-break' ); } });
*/ */ */ */